चूत का भोसड़ा बना कर छोड़ा

मैं अपने भैया के साथ एक दिन शॉपिंग करने के लिए मॉल में गया हम लोग काफी समय बाद मॉल में शॉपिंग करने के लिए गए थे। मेरे भैया ने कहा कि आज कुछ कपड़े लेने हैं तो मैंने उन्हें कहा कि चलो आज हम लोग शॉपिंग करने ही चलते हैं इसलिए हम दोनों साथ में चले आए मेरे भैया का नाम रोशन है और वह सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं। हम दोनों ही शॉपिंग करने के लिए चले गए थे जब हम लोग मॉल के एक आउटलेट में गए तो वहां पर हमने कुछ कपड़े लिए और जब हम लोग बिल कटाने काउंटर पर गए तो वहां पर भैया मुझे कहने लगे यार वह लड़की मुझे बहुत अच्छी लग रही है। मैंने उन्हें कहा अरे भैया आप रहने दीजिए हम लोग अभी चलते हैं लेकिन भैया का दिल जैसे उस पर आ गया था और वह उससे बात करना ही चाहते थे भैया ने उससे बात कर ली। मैंने उन्हें कहा यह ठीक नहीं है लेकिन उन्होंने उससे बात की तो मालूम पड़ा कि वह मॉल में ही मैनेजर है भैया ने मुझे कहा अब यदि मैं शादी करूंगा तो सिर्फ शांति के साथ ही शादी करूंगा।

वह दोनों मिलने भी लगे थे और भैया जब भी उनसे मिलते तो हमेशा वह मुझे बताया करते कि आज मैं शांति से मिला था मैं जब भी मॉल में जाता हूं तो मेरी मुलाकात उनसे हो जाया करती थी लेकिन भैया फिलहाल शादी नहीं करना चाहते थे क्योंकि वह चाहते थे कि शादी के लिए कुछ समय और मिल जाए। एक दिन उन्होने पापा से इस बारे में बात की तो पापा ने कहा यदि तुम उस लड़की से पसंद करते हो तो हम लोग उसके घर पर मिलने के लिए चले जाते हैं या फिर वह अपने घर पर बात कर ले। पापा शांति भाभी के घर पर चले गए और उनके पिताजी से बात की हमारी फैमिली भी अच्छी फैमिली है इसलिए वह लोग बिल्कुल हमारे जैसे ही हैं और उन्हें भी भैया के साथ शांति भाभी का रिश्ता कराने में कोई आपत्ति नहीं थी वह लोग मान चुके थे। भैया भी बहुत खुश थे सब कुछ ठीक चल रहा था कुछ समय बाद भैया की सगाई भी हम लोगों ने एक होटल में करवाई और फिर उसके बाद भैया की शादी का दिन नजदीक आने वाला था। कुछ समय बाद उन दोनों की शादी भी हो गई शांति भाभी हमारे घर पर आ चुकी थी और सब कुछ बहुत अच्छे से चल रहा था वह भी जॉब कर रही थी सुबह के वक्त वह अपने ऑफिस चली जाती और शाम को घर लौटती भैया भी अपने काम में ही बिजी रहते थे।

एक दिन भैया ने कहा हम लोग केरल घूमने के लिए जाना चाहते हैं पापा ने कहा तो ठीक है तुम लोग चले जाओ इसमें हम से पूछने की क्या बात है लेकिन भैया पापा मम्मी से पूछे बिना कोई काम नहीं करते और ना ही वह उनसे पूछे बिना केरल जाते। पापा मम्मी मान चुके थे तो भाई और भाभी घूमने के लिए केरल चले गए और मैं उन्हें फोन करके पूछा करता कि वहां पर सब कुछ ठीक है तो भैया कहने लगे मैं तुम्हें फोटो भेजता हूं। भैया ने मुझे अपनी और भाभी की फोटो भेजी वह लोग बड़ा ही एन्जॉय कर रहे थे मैंने भैया से कहा मैं भी वहां जाना चाहता हूं तो भैया कहने लगे अगली बार हम लोग फिर आ जाएंगे। भैया और भाभी कुछ दिनों बाद घर लौट आए सब कुछ बहुत ही अच्छे से चल रहा था मेरे जीवन में भी मेघा चुकी थी मेघा से मेरी मुलाकात भाभी ने हीं करवाई वह भाभी के साथ ही मॉल में जॉब करती थी। जब मैं मेघा से मिला तो मुझे वह बहुत अच्छी लगी उसका नेचर और उसका व्यवहार मुझे बहुत पसंद आया इसलिए हम दोनों एक दूसरे को पसंद करने लगे। उसे भी मेरे अंदर कुछ खूबियां दिखी तो हम दोनों ने साथ में रहने का फैसला कर लिया और हम दोनों साथ में ही रिलेशन में थे। एक दिन मेघा मुझे कहने लगी आज मूवी देखने के लिए चलते हैं मैंने मेघा से कहा लेकिन आज तो मेरे पास टाइम नहीं हो पाएगा हम लोग कल का प्रोग्राम रख लेते हैं लेकिन वह तो उसी दिन मूवी देखना चाहती थी परंतु मेरे पास उस दिन वाकई में समय नहीं था इसलिए मैंने उसे मना कर दिया। वह मुझ पर गुस्सा हो गई और कहने लगी तुम तो मेरी किसी भी बात को नहीं मानते हो मैंने उसे कहा देखो मेघा ऐसा नहीं है मैं ऑफिस में बिजी था इसलिए तुम्हारे साथ आज मूवी देखने के लिए नहीं चल पाया क्योंकि हमारे ऑफिस में कोई जरूरी मीटिंग थी और मुझे आने में टाइम हो जाता। वह कहने लगी तुम मुझसे प्यार ही नहीं करते हो और इसी बात पर उसने मुझसे झगड़ा कर लिया हम दोनों का बहुत ज्यादा झगड़ा हुआ।

कुछ दिनों तक तो हम दोनों ने एक दूसरे से बात भी नहीं की इस बात का पता शांति भाभी को चल चुका था और उन्होंने मुझे कहा देखो झगड़े तो सबके बीच में होते हैं लेकिन तुम्हें मेघा से बात करनी चाहिए वह भी कुछ दिनों से परेशान चल रही है और ऑफिस में भी अच्छे से किसी से बात नहीं करती। मैंने भाभी से कहा आप मुझे एक बात बताइए इसमें मेरी गलती कहां थी मैंने भाभी को सारी बात बताई तो वह कहने लगी देखो मुकुल ऐसा होता है और कभी कबार हमें ही अपने रिलेशन के लिए झुकना पड़ता है। भाभी मुझे बहुत समझाया करती थी और हमेशा वह मुझे सपोर्ट किया करती थी भाभी ने जब मुझे यह सब कहा तो मैंने कुछ ही देर बाद मेघा को फोन किया और उससे बात की। जब मैंने मेघा से फोन पर बात की तो वह खुश हो गई पहले तो वह मुझसे थोड़ा नाराज थी लेकिन जब हम दोनों के बीच अच्छे से बात होने लगी तो वह मुझे कहने लगी आगे से तुम हमेशा मेरी बात मानोगे। मैंने मेघा से कहा ठीक है मैं आज के बाद तुम्हारी हर एक बात मानूंगा लेकिन तुम्हे भी मेरी कुछ बातें माननी पड़ेगी जिससे कि हमारे बीच में कभी भी कोई झगड़ा ना हो।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *