काफी लंबा इंतजार करना पडा

kamukta, antarvasna मेरा चक्कर मेरे पड़ोस में रहने वाले मुकेश के साथ चलता है मुकेश से मैं एक शादी के दौरान मिली थी। मैं जब उससे मिली तो उस वक्त मेरे पति भी मेरे साथ थे लेकिन उसके चेहरे की चमक एक अलग ही प्रकार की थी मै उसे अपना किसी भी हालत में बनाना चाहती थी। मैंने उससे फेसबुक के माध्यम से बात की, जब हम दोनों की दोस्ती हो गई तो मैं मुकेश से अपनी चूत मरवाना चाहती थी। मै उसके लिए इतनी ज्यादा बेताब थी मैंने उससे अपनी चूत मरवाने की ठान ली जब पहली बार उसने मुझे चोदा तो मुझे ऐसा लगा जैसे मैं जन्नत में चली गई हूं। उसके बाद मुझे बहुत अच्छा मौका मिल गया मेरे पति भी विदेश नौकरी के लिए चले गए मुझे जैसे खुलकर आजादी मिल गई मैं मुकेश से हमेशा चुदने के लिए तैयार रहती। जैसे उसके लंड ने मुझे अपना दीवाना बना दिया था क्योंकि उसका लंड 10 इंच मोटा और लंबा था लेकिन मुझे उस वक्त मुकेश के साथ सेक्स करने का मौका नहीं मिला जब मेरी ननंद घर से भाग गई।

मेरी ननंद का नाम संजना है वह पड़ोस में रहने वाले एक लड़के के साथ भाग गई, जब मेरी ननद घर से भागी तो उस वक्त मेरी सास और ससुर का रो रो कर बुरा हाल हो चुका था हमें यह बात तो काफी समय बाद पता चली, वह नौकरी करने के लिए घर से गई थी कुछ दिनों तक वह यह कहकर घर नहीं लौटी कि मुझे ऑफिस का काम है इसलिए मैं अपनी सहेली के घर ही रहूंगी उसकी सहेली उसके ऑफिस के पास ही रहती थी इसलिए हम लोगों ने उसे वहां भेजा था हमने इस बात पर ध्यान नहीं दिया परंतु जब काफी दिनों तक वह घर नहीं लौटी तो उसके बाद एक दिन मेरी छोटी ननद आकांक्षा ने संजना को फोन करने की कोशिश की लेकिन उसका फोन लग ही नहीं रहा था उस दिन जब उसका फोन नहीं लगा तो उसने यह बात मेरे सास और ससुर को बता दी हम लोगों ने भी काफी ट्राई किया लेकिन उसका फोन नहीं लगा, जब हम लोग उसकी सहेली के घर पहुंचे तो वह हमें कहने लगी कि वह तो मेरे साथ में थी ही नहीं। हम सब लोग बहुत घबरा गए और इसी घबराहट के मारे मेरी सास को वहीं चक्कर आ गए, फिर हमें उन्हें अस्पताल में भी एडमिट करवाना पड़ा जब यह बात मेरे पति को मालूम पड़ी तो वह भी घर आ गए और जब वह घर पहुंचे तो वह बहुत ज्यादा गुस्से में थे क्योंकि उन्होंने कभी नहीं सोचा था कि संजना इस प्रकार की हरकत करेगी।

जब हम सब लोग साथ में बैठे हुए थे तो मेरे पति मेरी सास से पूछने लगे की क्या उसका किसी लड़के के साथ पहले से ही कोई रिलेशन था या फिर उसने आपसे इस बारे में कुछ बात की हो, मेरी सासू कहने लगी कि उसने हमसे कभी भी इस बारे में बात नहीं की और ना ही कभी हमें उसने इस बारे में कुछ बताया। इस बात से हम सब लोग बहुत दुखी थे लेकिन संजना का कहीं भी कुछ पता नहीं था हम लोगों ने सोचा कि पहले पुलिस स्टेशन में कंप्लेंट कर दी जाए लेकिन मेरे पति ने मना कर दिया वह कहने लगे कि अब तो वह घर से भाग चुकी है बेकार में यदि हम पुलिस कंप्लेंट करेंगे तो हमारे ही घर की बदनामी होगी हम लोग कुछ दिनों तक रुक जाते हैं यदि वह घर नहीं लौटी तो उसके बाद हम लोग कानून का सहारा लेंगे, यह कहते हुए सब लोग चुप हो गए लेकिन ना तो उसका कुछ पता था और ना ही उसका कोई फोन आया था इस बात को एक महीने से ऊपर हो चुका था और मेरे पति भी अब घर पर ही थे। एक दिन मुझे मुकेश का फोन आया मैंने मुकेश को सारी बात बताई और कहा कि संजना घर से भाग चुकी है घर में इस वजह से काफी तनाव का माहौल है, उसके बाद मेरी भी मुकेश से कोई बात नहीं हो पाई इस बात को काफी समय हो चुका था। एक दिन जब संजना घर आई तो उसके साथ में एक लड़का भी था, संजना को देख कर तो यही लग रहा था कि उसने उस लड़के के साथ शादी कर ली है जब वह दरवाजे पर खड़ी थी तो मेरे पति ने और मेरे ससुर ने उसे कहा कि अब तुम्हें घर पर आने की आवश्यकता नहीं है, उसे उन्होंने दरवाजे से ही उल्टे पांव लौटा दिया उसके बाद वह दुबारा घर पर नहीं आई। मेरे पति को इस बात से बहुत सदमा पहुंचा था और उन्होंने आकांक्षा को भी साफ तौर पर कह दिया था कि यदि तुमने भी ऐसा कुछ किया तो तुम भी हमारे घर का रास्ता भूल जाना। आकांक्षा भी कॉलेज में पढ़ रही है लेकिन वह संजना की तरह नहीं है परंतु मेरे पति ने उसे साफ तौर पर कह दिया था इसलिए वह ज्यादातर समय घर पर ही रहती थी वह कॉलेज से सीधा घर लौट आती थी।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *