वाइफ की गांड चुदाई इनकमटैक्स ऑफिसर से

दोस्तो, मेरी बीवी ऋतु ने इनकम टैक्स ऑफीसर के साथ चुदाई करने के बाद मेरी सारी टेंशन खत्म कर दी थी. अब मुझे कोई प्राब्लम नहीं थी. ऋतु ने फिर से अपनी मॉडलिंग पे ध्यान देना शुरू कर दिया था और जिम भी जाने लगी थी. अब वो पहले से और भी ब्यूटिफुल हो गयी थी. उसने अपने जिम ट्रेनर को बोल कर अपनी गांड को बड़ी, गोल और सुडौल करने वाली एक्सर्साइज़ करनी शुरू कर दी थी.

उसने अपने जिम ट्रेनर से बोला कि मेरी कमर में कर्व आना चाहिए और बूब्स भी बड़े बड़े दिखने चाहिए.
ट्रेनर तो पहले से ही ऋतु की जवानी पे फिदा था. उसने झट से एक्सर्साइज़ करवाना शुरू कर दिया और 3 महीने में ही ऋतु का फिगर देखने लायक हो गया था. उसकी गांड थोड़ी मोटी और कमर पतली हो गई थी. उसके मम्मों का साइज़ भी बढ़ गया था. वो जब भी अपने टाइट जिम वाले कपड़े पहन कर निकलती थी, तब उसका पूरा फिगर साफ़-साफ़ दिखता था.

उसकी गोल गोल चुचियां और गोल गांड की शेप देख कर गली वालों की हार्टबीट तेज हो जाती थी और टाइट जिम ड्रेस में ऊपर से ही उसकी चुत की शेप साफ़ नज़र आती थी. हमारी गली में काफ़ी मकान थे और ऋतु के जिम निकलने के वक़्त क्या बुड्डा … क्या जवान … सभी अपनी अपनी बालकनी से झांकने लगते थे. ऐसा लगता था जैसे वे सब अभी उसे अपने घर के अन्दर ले जाकर चोद देंगे. अब इतना लिखने से आप लोग मेरी बीवी की रसभरी जवानी की महक को समझ ही गए होंगे.

सब कुछ अच्छा चल रहा था. उस टैक्स ऑफीसर का इसी बीच में ट्रांसफर हो गया था. उसने अपना ट्रांसफर दिल्ली करवा लिया था. जब वो चला गया था, तब मैं और ऋतु बहुत खुश थे. क्योंकि वो हर वीकेंड को आ जाता था और ऋतु को ना चाहते हुए भी उससे चुदना पड़ता था.

यह घटना उस ऑफिसर के ट्रान्सफर के पहले की है. ये मैं उसी समय की बात लिख रहा हूँ. एक रात वो ऑफीसर आया और हम तीनों बैठ कर पार्टी कर रहे थे. ऋतु ने लंबा सेक्सी सिल्क गाउन पहन रखा था. उस गाउन में ऋतु के मम्मे और गांड बहुत सेक्सी लग रहे थे. उसका 36-28-34 का सेक्सी फिगर स्किन फिट सिल्क गाउन में साफ़ दिख रहा था. उसकी पतली कमर और मोटी गांड देखते ही रवि ने बोला- आज तो कमाल लग रही हो ऋतु डार्लिंग … बिल्कुल सेक्सी रंडी की तरह दिख रही हो.

अपने लिए रंडी शब्द सुन कर ऋतु को बहुत बुरा लगा और मुझे भी. हम दोनों को अपसेट देख कर उसने माफी माँगी और कहा- ड्रिंक के नशे में मुँह से निकल गया … आई एम सो सॉरी बेबी.
उसने ऋतु को ड्रॉइंग रूम में एक कैटवॉक करने को बोला, जिससे से वो उसका पूरा बदन देख सके … आगे से और पीछे से भी.
ऋतु उठ कर कैटवाक करने लगी. तब रवि की नज़र ऋतु की गांड पर टिक गयी, जो सिल्क गाउन से साफ़ उठी हुई झलक रही थी.

उसने ऋतु को अपने पास बैठने को बोला. ऋतु के बैठने से पहले ही उसने अपना हाथ सोफे पे रख दिया और ऋतु अंजाने में उसके हाथ पे बैठ गयी. ऋतु ने सॉरी बोला और उठने लगी, तो ऑफीसर रवि ने कहा- बैठी रहो यार … तुम्हारे मुलायम और गोल चूतड़ बहुत सेक्सी लग रहे हैं.

ऋतु के पास कोई ऑप्शन नहीं था. वो ऑफीसर के हाथ के ऊपर अपनी गांड टिका कर बैठ गयी. अब रवि का एक हाथ मेरी बीवी की गांड के नीचे था. वो दूसरे हाथ से ऋतु के बूब्स को तेज़ तेज़ दबाने लगा और उसे किस करने लगा था. फिर वो पूरा घूम कर ऋतु की गोद में बैठ कर अपने दोनों हाथों से उसका चेहरा पकड़ कर उसे चूमने लगा. इसके बाद उसने मेरी बीवी को अपनी गोद में बिठा लिया और अपने दोनों हाथ से उसकी गांड पकड़ कर दबाने लगा. वो ऋतु को किस भी करता रहा.

तभी ऋतु को अपनी गांड के नीचे कुछ महसूस होने लगा. ये सब मैं भी देख रहा था कि ऑफीसर रवि अपनी उंगलियों को ऋतु की गांड के आस पास घुमा रहा था.
ऋतु ने बोला- रवि ये क्या कर रहे हो … अजीब लग रहा है.
तब उसने बोला- मेरा मूड बन रहा है.

मैं भी समझ गया कि आज वो ऋतु की गांड मारने की फिराक़ में आया है … क्योंकि इतनी बार ऋतु की चुत मार कर शायद वो बोर हो गया था और कुछ नया एक्सपेरिमेंट करना चाहता था.
वो सोचता था कि इतनी सुंदर और सेक्सी मॉडल लड़की हाथ लग गयी है, इसके साथ जवानी के सारे मज़े ले लूँ. पता नहीं फिर ये हाथ आए या ना आए.

रवि ने ऋतु से कहा- डार्लिंग आज कुछ नया करते हैं.
ऋतु- क्या नया रवि सर?
रवि- बेबी आपकी चुत तो बहुत बार मार ली … आज आपकी गांड मारने का मन है.
ऋतु- क्या?
मैं- क्या सर? गांड मारने का?
रवि- हां …
मैं- पर सर ऋतु ने आज तक कभी गांड नहीं मरवाई है. उसे ये सब पसंद नहीं है. आप ऐसे ही अपना काम कर लो, नॉर्मल सेक्स करके प्लीज़.
ऋतु- नहीं सर … मैं ये नहीं कर सकती.
मैं- सर प्लीज़ ऐसा मत करो … आपने जो बोला, हमने वो सब किया.
रवि- तो एहसान किया क्या भोसड़ी के? लाखों का फ़ायदा भी तो करवाया है. अब जो मैं बोल रहा हूँ, वो कर … वरना मेरे पास और भी तरीके है काम करवाने के. ज्यादा चुटूर चुटूर करने का नहीं है … समझा?

मैं उसका इशारा समझ गया था कि वो हम दोनों के साथ क्या कर सकता है. मैंने ऋतु की तरफ देखा, वो असहज महसूस कर रही थी और डर भी रही थी क्योंकि उसने कभी गांड नहीं मरवाई थी.

हालांकि मुझे ऋतु की गांड का उद्धाटन करने का मन था, पर ये सोच कर रह गया कि चलो किसी तरह ऋतु की गांड का छेद चालू तो हो जाए. फिर मैंने भी उसकी गांड मार लूँगा. यही सोच कर मैंने ऋतु से बोला- अब जो सर बोल रहे हैं, वो तो करना ही पड़ेगा.
ऋतु भी मजबूरी में मान गयी.

रवि ने मुझसे कहा- सामने से टेबल हटा दो और ये जगह खाली कर दो.
मैंने टेबल हटा दी, टेबल के हटने से सामने पूरा खाली हो गया.

रवि मेरी बीवी ऋतु के साथ थ्री सीटर सोफे पे था और मैं बगल के टू सीटर सोफे पे बैठा था. उसने मुझसे बोला- जा जाकर बेडरूम से कोई क्रीम ले आओ … पहली बार है, तेरी बीवी को दर्द नहीं होगा.
फिर ऋतु झट से बोली- मैं लेकर आती हूँ … आकाश को पता नहीं होगा.
ऋतु जैसे ही उठ कर जाने लगी. रवि ने ऋतु की गांड पे तेज़ थप्पड़ मार दिया और हंसने लगा.

सिल्क गाउन के ऊपर से गांड पे थप्पड़ लगने के बाद वो चीख उठी, पर क्या करती. वो बेडरूम की तरफ चल पड़ी उसकी कॅट्वाक देख कर रवि का लंड और खड़ा हो गया. उसका एक चूतड़ ऊपर जाता और दूसरा नीचे आता. ये मस्त नजारा देख कर तो मेरा भी लंड खड़ा हो गया.

रवि ने मुझे आंख मारते हुए कहा- यार मस्त पटाखा है तेरी बीवी.
मेरी झांटें सुलग गईं … पर इस मादरचोद के सामने मैं चुप रहने के आलावा कुछ नहीं कर सकता था.

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *