सेक्स की असली शुरुआत

शुरू से जवान होने तक मेरी बहुत सारी ऐसी यादें हैं जिनके बारे में मुझे पता नहीं था कि मैं खेल खेल में ही, अनजाने में सेक्स सीख रही थी. वो सब खेल ही थे, जो हम सबको सेक्स का पाठ पढ़ाते हैं.

हम इस साइट पर हैं और हम सब यंग हो गए हैं इसी लिए इस साइट पर हैं. हम सब जानते हैं कि सेक्स करने की उम्र और सेक्स के लिए दोनों तरफ की कोशिश जरूरी होती है. आप और मैं सेक्स के बारे में काफी कुछ जानते हैं. इस साइट पर कमेंट पढ़ने के बाद मुझे लगा कि कुछ लोग तो ज्यादा ही जानते हैं.

मुझे लगता है कि मैं जो कहानी आपको बताऊंगी, उससे आप सब कुछ गलत नहीं सोचेंगे और उसका कोई गलत मतलब नहीं निकालेंगे.

मैं मेरठ से एक शादीशुदा महिला हूं. अभी 25 वर्ष की हूँ. इससे ज्यादा और डिटेल्स देने की जरूरत नहीं होगी. या शायद मैं अपनी निजी जानकारी इससे अधिक दे भी नहीं सकती हूँ.

मेरी सोच सेक्स की समझ में बारे में आपसे अलग हो सकती है. मुझे लगता है कि हम कम उम्र से सेक्स के बारे में सीखते हैं. सेक्स करने की उम्र और जिस्म की गर्मी तक हम इंतजार करना चाहिए. छोटी उम्र में सेक्स करने से शरीर में बीमारी हो सकती है और अंग खराब हो सकते हैं. हमें इन सभी बातों का ध्यान रखना चाहिए.

हम सब सेक्स करते हैं और किसी वीडियो से या किसी दोस्त की बात सुन कर या अब इस साइट पर पढ़ कर सेक्स करने के नई तरीके को जानने लगे हैं. पर क्या ये वीडियो या दोस्त हमें सेक्स करना सिखाते हैं. या हम कहीं और से सीखते हैं. एक बार इस बारे में आप सोचना और कमेंट करके अपनी राय देना.

मैं अपनी बात करूं, तो शुरू से जवान होने तक बहुत सारी ऐसी यादें हैं, जिनके बारे में मुझे पता नहीं था और खेल खेल में ही अनजाने में सेक्स सीख रही थी. अब जवान होने पर समझ आया कि वो सब खेल ही थे, जो हम सबको सेक्स का पाठ पढ़ाते हैं.

ऐसे ही कुछ खेल या सेक्सी खेल के बारे में मैं आपसे शेयर कर रही हूं.

मैं एक बार भाई और मम्मी के साथ अपने मामा के यहां गई थी. वहां मामा के और कुछ पड़ोस के लड़के लड़कियां भी थी. जिनके साथ हम दोनों भाई बहन खेलते थे.

हम सब कभी डॉक्टर का खेल खेल कर चूतड़ पर सुई लगाते और डॉक्टर की तरह ही रगड़ कर मज़े करते थे. कभी कभी तो छोटे से लंड से ही इंजेक्शन लगाया जाता था. पर उस समय हम सब की उम्र एक समान ही थी, जिससे सेक्स तो नहीं होता था. बस हमारा खेल होता था.

कभी घर बनाकर उसमें कुछ लोग मम्मी पापा का किरदार करते और उनकी शादी होती. फिर एक दूसरे के ऊपर लेट कर सेक्स करने की कोशिश करते. ऐसा हम में से कई लोग ने किया होगा. शायद आप भी उस समय में ये सब करते रहे होंगे. हम सेक्स करते हुए अपने अंगों को जबरस्ती सेक्स करने की कोशिश में रगड़ते थे, पर होता कुछ नहीं था.

कई बार मैंने देखा कि हम उंगली से पकड़ कर छोटे से लंड को चूत में डालने की कोशिश करते थे, पर किसी भी लड़के का लंड चूत में जाता ही नहीं था. बिल्कुल छोटा सा नुन्नू जैसे लंड को साथ की लड़कियों की चूत के छेद के बाहर ही रगड़ते हुए मज़े लेते रहते थे. मेरे मामा की बेटी को ये करना बहुत अच्छा लगता था क्योंकि वो हम सब से थोड़ी बड़ी थी.

मुझे एक और बात याद आती है. जब कोई लड़की पेशाब करती या लड़का पेशाब करता, तो हम एक दूसरे के अंगों को ध्यान से देखते कि हमारा ऐसा नहीं है. कभी कभी तो हाथ में पकड़ कर, हाथ से सहला कर देखते और एक दूसरे से पूछते कि तेरी सूसू मेरे जैसी क्यों नहीं है. तो दूसरा लड़का बोलता कि तेरी अभी उगी नहीं है. थोड़े दिन बाद तेरी भी सूसू बड़ी हो जाएगी. पर आज तक किसी भी लड़की का बड़ा नहीं हुआ क्योंकि असलियत में वो चूत थी, लंड नहीं.

ये सोच कर कभी कभी हंस देती हूं कि मेरी सूसू अभी तक बड़ी नहीं हुई है. हां चूत लंड जैसी कैसे बड़ी हो सकती है, वो तो सही से फ़ैल गई है. और सेक्स भी मजे से करती है.

एक और खेल हमने बहुत खेला था, जिसमें हम सब लड़कियां नंगी होकर कुत्ते की तरह हाथ और घुटने से चलती थीं और लड़के पीछे से नंगे होकर हमारे चूत और चूतड़ के छेद को जीभ से चूसते थे. हम लड़कियां, गुदगुदी होने पर आगे सरक जातीं. वो फिर से चाटते और फिर कुत्ते की तरह ऊपर चढ़ कर लंड अन्दर डालने की कोशिश करते. सच में इस खेल में बहुत मज़ा आता था.

मुझे बहुत बार की हुई ऐसी ही घटनाओं में याद है कि जब रात में हम सब सोते, तो मम्मी हमारे पास से उठ जाती थीं और पापा के पास लेट जाती थीं. वो समझते थे कि उनकी औलादें सो जाते हैं, पर हम उनकी सभी हरकतों पर ध्यान देते थे. कैसे वो किस करते हैं, चूची चूसते हैं और पापा मम्मी के ऊपर चढ़ कर उनकी चुदाई करते हैं.

मैंने कई बार तो मामी को मामा का लंड मुँह में चूसते हुए भी देखा था. मेरे मामा की संतानों ने भी ये देखा था. उसी को याद करते हुए हम दिन में खेलते हुए वैसे ही एक दूसरे की सूसू को चूसते थे और मज़े करते थे. पर उस समय इन सब बातों का पता नहीं था.

और एक खेल तो सबने खेला ही होगा. छुप्पन छुपाई वाला (हाइड एंड सीक). उस खेल में किसी के साथ कोने में छिपना और एक दूसरे के शरीर पर हाथ रगड़ना. चूची दबाना. लंड का किसी लड़की के हाथ में पकड़ा कर मज़े लेना. कभी कभी तो सेक्स करने के लिए अन्दर डाला.

अगर मैं ज्यादा बात करूं, तो सभी लड़के अपनी सेक्स की शुरुआत एक दूसरे की गांड मारने से ही करते हैं. अब भी और लड़कियां एक दूसरे की चूची दबा कर, या चूत चूस कर अपने जीवन के सेक्स की शुरुआत करते हैं.

मैंने भी जब अपनी जवान होते शरीर को महसूस किया, तो मामा की बेटी के साथ ही चूची दबा कर मस्ती की थी. पर ज्यादा जोर नहीं दिया था, क्योंकि घर वालों के बीच में समय नहीं मिलता था. प्राइवेसी की बहुत प्रॉब्लम होती थी. घर वाले भी हम पर ध्यान रखते थे. मगर ये सब करके बहुत अच्छा लगता था. ये बिल्कुल एडवेंचर की तरह ही था.

जब मैं जवान होने लगी, तो मम्मी, बुआजी, मामी सब बड़ी लेडीज ने मुझे मेरे शरीर में होने वाले बदलाव (पीरियड्स) के बारे में कई बार समझाया था.

मेरे चूची के उभार मैंने हर दिन महसूस किए हैं. कब वो नींबू की तरह छोटे छोटे थे. फिर संतरे बने और अब तो 34 साइज के हो गए हैं.

Pages: 1 2