मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-3

मेरे रहते पापा को मेरी चालू बीवी की चुदाई में दिक्कत हो रही थी तो उन्होंने मुझे ससुराल भेज दिया. वहां सास ने मेरी बीवी की शादी से पहले की जिन्दगी के बारे में बताया. जिसे सुन कर मैं हैरान रह गया.

दोस्तो, मैं आशीष एक बार फिर से अपनी कहानी का अगला भाग लेकर आया हूं. मेरी कहानी के पिछले भाग
मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-2
में मैंने आपको बताया था कि अपनी पत्नी की चूत की प्यास बुझाने के लिए मुझे एक नये लंड का जुगाड़ करना था.

मेरे पापा के रूप में वह लंड मुझे घर में ही मिल गया जो लंड की प्यासी मेरी पत्नी की चूत की गर्मी को काबू में रख सकता था. अब लवली अपने ससुर के लंड से भी चुद चुकी थी.

अब आगे की कहानी बताता हूं.
जैसा कि आप सब जान ही रहे हैं कि पत्नी को रंगे हाथों किसी और के लंड से चुदते हुए देखने के बाद मेरे जीवन में काफी कुछ बदल गया था. अगर मेरी जगह कोई और व्यक्ति होता तो वह भी यही करता. अब मेरे जैसा शरीफ लड़का बदल गया था.

कभी भी शादी से पहले मैंने किसी भी लड़की को छुआ तक नहीं था और मुझे एसी लड़की मिल गई थी कि जो गैर मर्दों के साथ पूरे मजे लेती थी, मगर मैं अब कुछ नहीं कर सकता था.

मैं अब इन सबकी भरपाई करने की कोशिश कर रहा था, मैं अब किसी भी हद तक जा सकता था. मुझे अब शरीफ नहीं रहना था. मैं ये भी जानता था कि अगर मैं शादी तोड़ने की बात करूंगा तो बहुत लफड़ा हो जायेगा और दूसरी बात अगर मैं लवली को रोकने की कोशिश करता हूं तो कब तक करूंगा, और मैं अगर अपनी सासू मां के पास जाता हूं तो भी लवली को हमेशा नहीं ले जा सकता.

मुझे अपने ससुराल के खेतों को संभालने के लिए हमेशा जाना होता है. घर भी गांव से बाहर बना हुआ है. ये भी डर था कि अगर लवली वहां पर गांव में किसी से पट गयी तो पूरे गांव में अलग से बदनामी हो जायेगी.

इसलिए मेरे पास एक ही रास्ता बचा था कि मैं अपनी बीवी की प्यासी चूत को लंड दिलाकर शांत करवाता रहूं. इसी वजह से मैंने पापा के लंड से अपनी ही बीवी की चूत चुदवा दी.

मगर मेरा ये वार मुझ पर ही उल्टा पड़ गया था. मेरी बीवी अब मेरे पापा के लंड से चुद कर ही ज्यादा खुश रहती थी. उसको अपने ससुर के लंड से चुद कर ही ज्यादा मजा आता था.

अब तीसरी बार जब लवली मेरे पापा के पास चुदने के लिए जाने लगी तो मैंने उसको जाने ही नहीं दिया. उसको नंगी करके चोदने लगा. मैं उसकी चूत को चाट रहा था. मगर मेरा ध्यान बार बार पापा और लवली की चुदाई पर चला जाता था.

लवली को चोदने के बाद मैं उसको बांहों में लेकर सो गया. कुछ देर के बाद मेरी नींद खुली तो देखा कि लवली अभी भी जाग रही थी. मैं उसकी चूचियों को मसलने लगा और पूछा- तुम्हें नींद नहीं आ रही है क्या?
वो बोली- पापा से चुदवानी है एक बार.

मैं उसकी बात सुन कर परेशान हो गया. मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि उसको मेरे पापा के लंड से चुदने की इतनी ललक क्यों है.
मुझे समझ आ गया था कि जब शादी के बाद अपने पति के रहते हुए मेरी बीवी किसी और मर्द के लंड से चुदने के लिए इतनी बेताब हो रही है तो फिर शादी से पहले तो इसने न जाने कितनों ही मर्दों से अपनी चूत चुदवाई होगी.

लवली से मैंने पूछा- तुम तो कह रही थी कि तुम मुझे बहुत मजा दिलवाओगी, मेरे घर को मजे से भर दोगी, यही तुम्हारा मजा है क्या? जो तुम रोज रोज अपने ससुर से चुदवाने जा रही हो. अब मेरा बाप भी तुम्हारे ही इशारों पर चलेगा. तुम मुझे चूतिया बना रही हो क्या?

मैं उठ कर पेशाब करने चला गया. जब वापस आया तो देखा कि लवली नीचे बैठ गयी थी चटाई बिछा कर. उसने मुझे अपनी ओर खींच लिया और मेरे होंठों से होंठों को मिला कर किस करने लगी.
वो बोली- आशीष, उस रात मुझसे बहुत गलती हो गयी थी. मुझे शादी के बाद किसी और मर्द से संबंध नहीं बनाना चाहिए था. अब मैं आपकी मर्जी के बिना कुछ नहीं करूंगी.

लवली की चूचियों को पकड़ कर मैं अपने मुंह में लेकर चूसने लगा. मेरे दिमाग ने एक बात को नोट किया कि अपनी पत्नी को सबसे पहले चुदाई करके खुश करना है, उसके बाद ही किसी और को चोदना है.

बीस मिनट तक उसकी चूचियों को चूसने के बाद मैंने अपने मुंह को चूत में डाल दिया और जीभ से चाट कर गर्म करने लगा. लवली इतना उत्तेजित हो गई थी कि उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया लेकिन मैं फिर नीचे चूत पर मुंह लगा कर चाटने लगा. मैं आज लवली को इसी तरह झाड़ देना चाहता था

लवली मुझे ऊपर खींच कर कहने लगी- पापा खिड़की से झांक रहे हैं!
मैं और तेज़ी से चूत से खेलने लगा.

लवली कामुक आवाजें निकाल रही थी- आहह . उम्म . आह्ह जान निकल जायेगी ऐसे तो . आह्ह गई मैं तो . ऊई मां .
ऐसे करते हुए वो तेज तेज सिसकारने लगी.

फिर मैंने लवली की चूत में लन्ड डाल दिया. मैंने भी पापा को देख लिया था लेकिन मैंने उन पर ध्यान नहीं दिया. उसके बाद मैं नीचे आ गया और लवली मेरे लंड पर आ गयी. मैंने उससे कहा कि तुम झटके दो. वो धक्के देने लगी और नीचे से मैं चोदने लगा.

कुछ देर के बाद मैंने लवली को नीचे कर दिया. उसकी चूचियों को पकड़ कर लंड की स्पीड तेज कर दी. मैं तेजी से अपनी बीवी की चूत की ठुकाई करने लगा और लवली मजे में तैरने लगी.

उसकी चूचियां लाल हो गयी थीं. उसके होंठों से मस्त कामुक आवाजें निकल रही थीं.

काफी देर तक मैंने इसी स्पीड से चुदाई की. लवली इस दौरान पहले झड़ चुकी थी. फिर तेजी के साथ धक्के लगाते हुए मैं भी उसकी चूत में झड़ गया. मैंने अपना सारा पानी उसकी चूत में छोड़ दिया.

मेरा बाप मेरी बीवी की चूत का इतना बड़ा दीवाना बन गया था कि मेरे रूम तक झांक रहा था. उस रात लवली पापा से नहीं चुदी.

मेरा बाप दूसरे दिन मुझसे बोला- तुम लवली की मम्मी के घर चले जाओ, वहां देखो कि गेहूं सिंचाई करने लायक हो गये हैं कि नहीं. अगर सिंचाई लायक हो गये हों तो तुम सिंचाई शुरू कर देना. मुझे एक दिन का काम है उसके बाद मैं भी वहां आ जाऊंगा.

पूरा माजरा मैं समझ चुका था. जब लवली खाना लेकर आई तो मैंने पूछा- पापा कुछ कह रहे थे क्या?
वो बोली- हां, कह रहे थे. मगर ज्यादा बात नहीं हो पाई. आप बीच में आ गये.

मैंने पूछा- क्या बोल रहे थे?
लवली- वो कह रहे थे कि वो रात भर सो नहीं पाये. उनको नींद नहीं आई. बहुत परेशान थे. बोल रहे थे कि रात भर मेरा इंतजार करते रहे और बोले कि मैं तुम दोनों की चुदाई देख रहा था. फिर मैं बोली कि मैं नहीं आ सकती थी. वो रात भर मुझे चोदते रहे. फिर वो कहने लगे कि वो कोई तरकीब निकालेंगे.

लवली की बात सुन कर मैं बोला- आज मुझे पापा तुम्हारी मां के पास भेज रहे हैं. उन्होंने आज शायद तुमको खूब दबा कर चोदने का प्लान बनाया है.
लवली- तो आप दो दिन तक नहीं आना, तब तक मम्मी भी नहीं आयेंगी. तब तक मैं पापा को अपने प्यार में पूरी तरह से पागल कर दूंगी.

मैंने किसी तरह से लवली की बात मान ली. चार दिन तक अपनी सासू मां की चुदाई की लेकिन मेरा ध्यान हमेशा लवली को ओर ही लगा रहता था.
इस बात के बारे में जब मैंने सासू मां को बताया तो वो बोली- ये ठीक नहीं हो रहा है, लोग क्या सोचेंगे.
मैं बोला- मगर पापा तो लवली के प्यार में पागल हो चुके हैं. उसके लिए कुछ भी कर सकते हैं. इसलिए उनको रोकने का फायदा नहीं है.

सासू मां बोली- मैं आज तुमको एक बात बताना चाहती हूं लेकिन तुम ये बात किसी और को नहीं कहना.
मैं ध्यान से सासू मां की बात सुनने लगा.

वो बोली:
बात तब की है जब आपके ससुर जिंदा थे. लवली B.A कर रही थी. लवली बाहर पढ़ने निकली तो इसको मोबाइल फोन देना पड़ा. मोबाइल फोन आते ही वो कुछ लड़कों के पास फंस गयी.

लड़के इसको रात में या दिन में ही होटल में लेकर जाने लगे. जब इसके पापा को इसके बारे में पता लगा तो उन्होंने इसका कॉलेज छुड़वा दिया और इसका फोन भी ले लिया. मगर जिन लड़कों से ये बात कर रही थी उन लड़कों ने दोबारा इसको फोन दे दिया.

फिर हमने इस पर पाबंदी लगा दी और हम दोनों के रहते ये घर से बाहर नहीं निकल सकती थी. उसके बाद ये अपने ही पापा के फोन पर बाप बेटी की चुदाई की कहानियां भेजने लगी. मां बेटी की चुदाई की कहानियां भी देने लगी.

इसके पापा पता नहीं कब वो कहानियां पढ़ने लगे और इन दोनों के बीच में सेक्स संबंध बन गये. उसके बाद इसके पापा ने इसको कॉलेज भेजना भी शुरू कर दिया.
अब इसके पापा ने मेरे साथ सेक्स करना कम कर दिया था. मैं काफी परेशान रहने लगी थी. मैं इसके पापा से इस बात को लेकर झगड़ा करने लगी.

फिर वो मुझे भी सेक्स वीडियो दिखाने लगे. मैं भी उसके बाद फैमिली सेक्स की कहानियां पढ़ने लगी. लेस्बियन सेक्स के वीडियो देखने लगी जिसमें दो औरतों की चुदाई का वीडियो होता था.

एक दिन की बात है कि मैं अपनी मां से मिलने के लिए गयी हुई थी. उस दिन लवली और इसके पापा घर पर अकेले थे. मुझे अगले दिन आना था लेकिन गाड़ी मिल गयी और मैं उसी दिन वापस आ गयी.

हमारा घर भी गांव से बाहर था इसलिए ये दोनों पूरा टेंशन फ्री थे. हमारे घर के गेट की एक चाबी हमेशा छल्ले में ही रहती है. मुझे लगा कि ये लोग सो गये होंगे. मैंने अंदर हाथ देकर दरवाजा खोल दिया. जब मैं अंदर गयी तो मैंने पाया कि लवली पैंटी में थी. इसके पापा भी नंगे थे.

लवली अपनी पापा की बांहों में बैठी हुई थी और इसके पापा इसको किस कर रहे थे. लवली की चूची नंगी थी और इसके पापा अपनी बेटी की चूचियों को दबा रहे थे. मैं ये सब देख कर हैरान रह गयी और लवली को मारने लगी और इसके पापा को भी पीटने लगी.

Pages: 1 2