भाभी की गरम चूत का मज़ा लिया

ही रीडर्स, माइसेल्फ रतन, 33 यियर्ज़ ओल्ड फ्रॉम पुणे वर्क्स इन मंक. ई आम बॅक अगेन वित अनदर न्यू रियल लाइफ स्टोरी. इफ़ योउ लीके इट प्लीज़ शेर युवर रिव्यूज़/कॉमेंट्स/फीडबॅक ओं मी एमाइल – रतनराज[email protected]गमाल.कॉम

भाभी: देवर्जी आपको फ्लर्ट करना आचेसे आता है.

मे: देवर का हक होता है भाभी की हेल्प करे उनको खुशी दे, ऑल्वेज़ स्माइलिंग रखे

भाभी: अछा तो ये बात है. क्या सच मे आप मुझे खुश करना चाहते हो

मे: हा भाभी. देवर का कर्तव्या होता है अपनी भाभी को खुश करे. ये कह के मे उनकी थाइस रब करने लगा और भाभी ने आइ बंद करली.

उनकी साँसे तेज़ होने लगी और मेने उनको लिप्स पे किस कर दिया.

भाभी: देवर्जी, ये ग़लत है. और वो दूर जाने लगी.

मे: कुछ ग़लत नई है भाभी, योउ हॅव रिघ्त तो बे हॅपी. और मेने उनको फिर से मेरे तरफ खिच लिया और फिर से लिप्स पे किस करने लगा.

इससे भाभी थोड़ी कमज़ोर पड़ने लगी और उन्होने भी रेस्पॉंड किया. और हुँने करीब 5 मिन्स तक किस्सिंग की.

फिर मेने भाभी को गोध मे उठाया और रूम मे लेके गया और बेड पे सुलाया. फिर मे उनको किस करने लगा. आइ पे, सिर पे, चीक्स पे, गर्दन पे, और लिप्स पे. वो भी छटपटा रही थी और मुझे किस करने लगी.

फिर मेने उनका पल्लू साइड से गिरा दिया और उनका ब्लाउस खोलने लगा. वो भी साथ देने लगी. उन्होने ने मेरा टशहिर्त खोल दिया. मे उनके बूब्स को दबाने लगा. और भाभी आहह….उम्म्म्ममम करने लगी.

भाभी: देवर्जी और दब्ाओ. फिर मेने उनके क्लीवेज के बीच मे किस करने लगा और उनकी वाइट कलर की ब्रा खोल दी. और दोनो बूब्स को चूसेनए लगा. भाभी ने मेरा सिर दोनो बूब्स के बीच मे दबा दिया और अहह….. देवर्जी, चूसिए…..अहह….बहोट अछा लग रहा है…… उम्म्म्ममम

फिर मे उनके निपल्स एक एक कर के सक करता रहा और बूब्स दबाते रहा. उनके निपल एकद्ूम ब्राउन, पायंटेड थे. और एक निपल टीत से दबाया तो वो चिक उठी और बोली, आहह देवर्जी धीरे.

फिर एक हाथ से उनके बूब्स दबाते रहा और धीरे धीरे उनकी नबी तक किस करते गया और उनकी नबी को किस करने लगा…. ओह उफफफफफफ्फ़ देवर्जी, ये क्या कर रहे हो….अहह….. बहोट अछा लग रहा है………….. अहह…. करते रहो……. अब दल भी तो अंधार देवर्जी.

मे: क्या डालु भाभी?

भाभी: आपका लंड मेरी छूट मे डालडो अब रहा नई जा रहा.

मे: इतनी भी क्या जल्दी है. फिर मेने उनकी सररी उतरने लगा.

भाभी: ये क्या कर रहे हो देवर्जी.

मे: अपने ही तो कहा न अंधार डाल दो.

भाभी: हा सररी उतरने की क्या ज़रूरत है. उपर कार्लो सररी और डालडो. आपके भैया ऐसे ही करते है.

मे: भाबी आपके गाओं मे ऐसा होता होगा, मे आपको असली मज़ा देता हू. मे जो कर रहा हू करने दो और आप साथ दो.

फिर मेने भाभी की सररी उतार दी. और वो सिर्फ़ वाइट पनटी मे थी. मेने अपनी पंत और अंडरवेर भी निकल दिया. भाभी ने अपनी आँखे बंद करी हुई थी.

मेने उनको मेरा लंड हाथ मे दिया और सहलाने को कहा. भाभी ने जैसे ही हाथ मे लिया उन्होने कहा साइज़ अछा ख़ासा है आपका देवर्जी. मेने कहा आपको पसंद आया बस यही काफ़ी है मेरे लिए.

फिर मेने उनकी पनटी भी उत्ारदी. उनकी छूट पे काफ़ी हेर्स थे. फिर मेने छूट के हेर को साइड किया और उनकी छूट मे उंगली डालने लगा..

भाभी: ये क्या कर रहे हो देवर्जी, इन्होने तो कभी ऐसा नई किया है

मे: भाभी आप बस एंजाय करो. और मे उनकी छूट मे उंगली अंधार बाहर करने लगा और भाभी ह….उम्म्म्मम करने लगी.

फिर मेने, अपना मूह उनकी छूट पे रखा और किस करने लगा. जैसे ही मेने उनको छूट पे किस किया वो एकद्ूम से अहह……….उफफफफफफफफफफफ्फ़ कर के झड़ने लगी और अपनी टाँगे बंद करने लगी… मे 2 मिन्स ऐसे ही रहा. और कहा क्या हुआ भाभी, कभी झड़ी नई क्या आज तक.

भाभी: नई देवर्जी, ऐसा पहली बार हुआ है मेरे साथ.

उसके बाद मेने उनकी टाँगे फिर से खोली, और उनको छूट पे किस करने लगा और टंग से उनकी छूट चाटने लगा. वो तड़प रही थी और उफफफफफफ्फ़ अहह, बहोट अछा लग रहा है देवर्जी.. पहली बार एक्सपीरियेन्स कर रही हू ये सब…. आहह..

2-3 मिन्स ऐसे ही उनको लीक करते रहा और फिर एकद्ूम से उन्होने मेरा सिर अपनी छूट मे दबा दिया और फिर से अहह देवर्जी कर क झाड़ गयी…

फिर मे उनके बाजू मे आके लेता और उनके उपर पैर डालके उनको फिर से किस करने लगा और बूब्स दबा ने लगा

मे: भाभी, अब आपकी बरी.

भाभी: मतलब???

मे: मेरे उपर अजाओ और जैसे मेने आपको किस किया वैसे करो. फिर भाभी मेरे उपर आई और मुझे किस करने लगी. उन्होने मुझे सिर पे, चीक्स पे, नोस पे, लिप्स पे, चेस्ट पे किस किया.

मेने उनको कहा, भाभी, मेरे भी तो निपल चूसो और उन्होने अपनी टंग से मेरे निपल को लीक किया और फिर से उपर आके लिप्स किस करने लगी.

मे: भाभी, नीचे भी तो जाओ, मेरे लंड के साथ खेलो तो सही और मु मे लेके चूसो

भाभी: नई देवर्जी, प्लीज़ मेने कभी इनका लंड नई चूसा है, मे ये नई करूँगा

मे: ठीक है भाभी, अतलेआसट लंड के साथ खेलो तो सही और टाइट करदो ताकि आपको असली मज़ा दे साकु. फिर भाभी ने मेरा लंड हाथ मे लिया और मूठ मरने लगी. फिर मेने उनको अपने पास खिछा और किस करने लगा और उनको नीचे लिटा दिया और उनके उपर आके उनके बूब्स ज़ोर से दबाने लगा और चूसेनए लगा.

भाभी: देवर्जी, प्लीज़ अब दल भी, अब रहा नई जा रहा है

मे: जैसी आपकी अगया भाभी. ये कहते हुए मेने अपना लंड उनकी छूट पे रखा और धीरे धीरे अंधार डालने लगा

भाभी: आराम से डालिए, काफ़ी टाइम होगआया है

मे: हा भाभी, आप बस एंजाय करो. और मे धीरे धीरे लंड अंधार डालने लगा. और भाभी ने आँखे बंद करली. फिर मेने एक और ढाका दिया और पूरा लंड अंधार दल दिया और भाभी की चीख निकल गयी. मे उनको किस करने लगा और फिर धीरे धीरे लंड अंधार बाहर कर के छोड़ने लगा.

भाभी को भी अब मज़ा आने लगा और वो अहह…उम्म्म्ममम उफफफफफ्फ़ करने लगी. मेने भी स्पीड बधाई और ज़ोर ज़ोर से छोड़ने लगा और भी भी एंजाय करने लगी और कहना लगी, ह देवर्जी बहोट अछा छोड़ते हो अप…और तेज़ छोड़ो.

फिर मे अपनी स्पीड बधाई और जमके लंड अंधार बाहर करके छोड़ने लगा. 5 मिन्स की लगातार तेज़ चुदाई के बाद मुझे लगा भाभी झाड़ रही है क्यू की उन्होने छूट टाइट करली थी और अहह उम्म्म्मममममममम आवाज़े करने लगी और फिर झाड़ गयी….

मेने भी और 2 मीं तेज़ी से छोड़ने लगा और उनकी छूट मे हू झाड़ गया और उनके उपर गिर गया और उनको किस करने लगा. 5 मीं ऐसे ही रहने के बाद साइड मे हू और भाभी ने अपना सिर मेरे चेस्ट पे रख के मुझे किस करने लगी और कहा देवर्जी, बहोट बहोट थॅंक योउ. पहली बार मे चरम तक पहुचि हू. और उनकी आँखो से आँसू आने लगे.

फिर मे उठा और उनके आँसू पीने लगा और उनको कहा और रोने की क्या बात है भाभी. आप खुस हो न..

भाभी: हा देवर्जी, बहोट खुश हू. मे ये सोच रही थी, काश आपके भैया भी मुझे ऐसा सुख दे पाते…

मे: आप चिंता ना करो भाभी, जबतक मे यहा पे हू, आपको बहोट खुश रखूँगा और ऐसे ही सुख देते रहूँगा. और आगे भी जब भी ओँगा तो आपको सॅटिस्फाइ करूँगा.

भाभी: थॅंक योउ देवर्जी, और भाभी ने मुहे किस किया.

मे: सिर्फ़ थॅंक योउ से कम नई चलेगा भाभी. मुझे भी तो खुशी चाहिए.

भाभी: बोलिए देवर्जी, आपको जो चाहिए वो दूँगी.

मे: जैसे मेने आपको खुशी दी है. वैसे ही आपको मुझे खुशी देनी पड़ेगा. मेरा लंड चूसना पड़ेगा. और हा भाभी आपके छूट पे के हेर्स निकल दो.

भाभी: देवर्जी, मेने कभी किया नई है. लेकिन आपके लिए मे ट्राइ करूँगा. और फिर किस कर के उठी और बातरूम जाने लगी

मे: भाभी, मे आपके अंधार झाड़ा, मेडिकल पे से गोली लानी पड़ेगा

भाभी: कोई बात नई देवर्जी. आपके भैया ने कहा उन्हे अभी बाकचा नई चाहिए, इसलिए मेने कॉपर त बिताया है.

इस बीच भाभी को गिल्टी भी फील होने लगा था की वो उनके हज़्बेंड को चीट की बुत मेने उनको समझाया फिर वो नॉर्मल हुई.

फिर अगले उर 10 दिन तक हम रोज़ चुदाई करने लगे, जब भी मॅन करता था तब. हम अलग अलग पोज़िशन ट्राइ किया, पूरे घर मे सेक्स किया.

जब लॉक्कडोवन् खुला तब भैया गाओं आए और फिर मे भी पुणे के लिए निकल गया.

तो इस तरह मेने भाभी उनको उनके लाइफ का पहला ऑर्गॅज़म दिलवाया.

इफ़ योउ लीके मी स्टोरी, प्लीज़ शेर युवर रिव्यूज़, कॉमेंट्स आंड फीडबॅक ओं मी एमाइल –

अन्य लोन्ली विमन लुकिंग तो हॅव छत, शेर ओर वॉंट तो हॅव रियल फन कॅन मैल मे ओर पिंग मे ओं हणगौट. एवेरितिंग विल बे केप्ट सीक्रेट.