चिकनी गांड की चुदाई का सुख मिला

चयन बोला- ऐसा नहीं है … शायद तुम्हें पता नहीं है, लेकिन लड़के की गांड ज्यादा मज़ा देती है. चलो मैं तुम्हें बताता हूं.

उसने अपने कंप्यूटर पर पोर्न की एक साईट खोली और मुझे गे सेक्स का एक वीडियो दिखाया.

मैं गे सेक्स का वीडियो देख कर हैरान था. मेरा लंड अब तक खड़ा हो चुका था. चयन की नज़र भी मेरे लंड पर ही टिकी थी. मैं भी थोड़ा थोड़ा समझ रहा था कि चयन ने मुझे आज घर क्यों बुलाया है.

मैंने चयन को दिखाते हुए अपने लंड पर हाथ रखा और धीरे धीरे अपना लंड सहलाने लगा.
चयन ने कहा- क्या हुआ मोंटू?
मैंने कहा- यार, अब तो मेरा लंड खड़ा हो गया … लगता है अब मुठ मारने बाथरूम में जाना पड़ेगा.
तभी चयन ने कहा- अच्छा जरा दिखाना मुझे.
ये कहते हुए उसने मेरे लंड को पकड़ लिया और बोला- हां यार यह तो खड़ा हो गया.
मैंने कहा- हां यार …

फिर चयन ने मेरे अंडरवियर में हाथ डाल कर मेरे लंड को बाहर निकाल लिया. मेरे लंड को देख कर वो बोला- यार मोंटू तेरा लंड तो बहुत बड़ा है … यकीन नहीं होता तू अभी इतना छोटा है और तेरा लंड 7 इंच का हो गया. मोंटू तेरे जितना बड़ा लंड गांड में हो, तो मज़ा आ जाएगा.
मैंने कहा- मज़ा कैसे आ जाएगा?
चयन बोला- इसे चूसने में.

ये कहते हुए जैसे जैसे चयन मेरे लंड को पकड़ कर दबा रहा था, मेरे लंड की भूख उतनी ही बढ़ रही थी.

मैंने चयन से कहा- यार एक कोई मिल जाए … जो लंड चूस ले, तो मज़ा आ जाएगा.

मैंने बस इतना बोला ही था कि चयन ने जल्दी से मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया. उसने जैसे ही मेरे लंड को मुँह में लिया … मेरे मुँह से ‘आहह..’ निकल गयी. मैंने आज के पहले कभी किसी से अपना लंड नहीं चुसवाया था.

धीरे धीरे चयन मेरे लंड के साथ खेल रहा था और मेरा लंड अपने पूरे जोश में चयन को मज़े दे रहा था. चयन की आंखें बता रही थीं कि जैसे उसका कोई ख़्वाब पूरा हो रहा हो.
मैंने लंड चुसवाते हुए चयन से बोला कि अहह … चयन … आज तो तूने मुझे खुश कर दिया.
चयन बोला- नहीं यार … मैं तो तुझे थैंक्स बोलना चाहता हूँ. तेरे मोटे लंड से आज मैं तृप्त हो रहा हूँ.

मैं उसकी तरफ मस्त निगाहों से देखे जा रहा था.

चयन- मोंटू सुन … यह तो अभी स्टार्ट हुआ है … आगे आगे देखना क्या क्या होता है.

यह बोल कर चयन ने मेरे पेंट के बटन को खोल दिया. उसने मेरे पेंट को उतार दिया और फिर अपनी जुबान से धीरे धीरे मेरे लंड को चाटने लगा.

लंड चूसते हुए ही उसने मेरे आंडों को भी सहलाना शुरू कर दिया और एक मेरी गोटी को उसने अपने मुँह में ले लिया. वो मेरी आंखों में आंखें डाल कर अपने मुलायम होंठों से गोटी को चूसने लगा. यह सब मेरे साथ पहली बार हो रहा था. मुझे बड़ा अच्छा लग रहा था. मैं चयन के साथ पूरा मज़ा ले रहा था.

अब चयन ने मेरी कमीज़ को उतारा और अपने भी सारे कपड़े उतार दिए. वो मेरे साथ चिपक गया और मेरी छाती के निप्पलों को चूसने लगा. मुझे उसके साथ ठीक वैसे ही बेहद मज़ा आ रहा था जैसे आपको यह सेक्स कहानी पढ़कर मजा आ रहा है.

चयन के बहुत ज़िद करने पर मैंने जोर जोर से दबा कर चयन के निप्पलों को भी चूसना स्टार्ट कर दिया. उसके निप्पल चूसना मुझे लड़की के मम्मों से ज्यादा मज़ा दे रहा था. चयन का गोरा बदन किसी अप्सरा से कम नहीं था. उसके साथ यह सब करना मुझे एक अलग ही मजा दे रहा था.

अब धीरे धीरे मेरा लंड किसी को पेलने को उतावला हो रहा था, लेकिन चयन पहले अपने मुँह को मेरे लंड से सन्तुष्ट करना चाहता था. चयन को मेरा मोटा लंड गुलाबी चौंच वाला इतना पसंद आ रहा था कि वो जैसे किसी लॉलीपॉप चूस रहा हो. लेकिन मैं अब तड़प रहा था, और सिर्फ गांड मारने को सामने उपलब्ध थी.

इसलिए मैंने चयन से कहा- चयन अब मैं तेरी गांड की चुदाई करूँगा.
चयन ने कहा- ठीक है मार ले.

वो रसोई घर से ऑइल लेकर आया और मेरे लंड पर तेल लगाने लगा. उसके बाद चयन ने थोड़ा तेल अपनी खुद की गांड में भी लगा लिया.

फिर वो मुझसे बोला- चल अब मुझे रंडी समझ कर चोद दे … आज तू मेरी गांड फाड़ दे.
मैंने भी देर नहीं की और लंड को चयन की गांड में डाल दिया. चयन ने भी मेरे लंड को तकलीफ न हो, इसलिए वो भी दोनों पैर ऊपर करके मेरा पूरा साथ देने लगा. धीरे धीरे मेरा लंड चयन की गांड में पूरा चला गया.

चयन ने मेरा लंड अपनी गांड में लेने के बाद कहा- मोंटू आज तुमने मुझे बहुत मज़ा दिया.
मैंने भी चयन से यही कहा- काश तू पहले मिल जाता, तो मेरे दो महीने में तीन बार का मुठ यूं ही बाहर नहीं निकलता. चल अब चिंता मत कर … आज हम दोनों को मज़ा आएगा.

इतना कह कर मैंने चयन की कमर को पकड़ा और उसके गांड में लंड से जोर जोर के झटके देने लगा. मैं पूरी मस्ती से उसकी गांड की चुदाई करने लगा.

कभी चयन ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ करता, तो कभी मैं ‘चयन अहह अहह..’ कर रहा था.

फिर करीब 20 मिनट के बाद मैंने चयन की गांड में अपना सारा पानी निकाल दिया. चयन की पूरी गांड लबालब भर गई थी. मेरा वीर्य बाहर बहने लगा था. चयन ने जल्दी से बाथरूम में जाकर सब साफ किया.

मैं उसकी गांड में अपना लंड रस निकालने के बाद बिस्तर पर निढाल पड़ा था. चयन ने बाथरूम से आकर मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया. वो पहले के जैसे लंड चाटने लगा और उसने मेरे लंड को चूस कर साफ कर दिया.

कुछ देर बाद मैं हाथ मुँह धोकर घर चला गया. उस दिन के बाद बहुत बार मैंने चयन की गांड की चुदाई की. चयन ने जो मज़ा दिया था, वास्तव में वो एक लड़की नहीं दे सकती थी. मैं हमेशा चयन को याद करता हूँ. अभी भी साल में 2 बार उससे मिलता हूँ और उसकी गांड की चुदाई करता हूँ.

इस तरह से चयन ने मुझे अपनी गोरी गांड से खुश किया था. मेरी गांड की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी, मुझे जरूर बताना ताकि मैं आपको अपनी दूसरी सेक्स कहानी बता सकूँ.
आपका मोंटू

Pages: 1 2