मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-1

सासू मां ने दरवाजा खटखटाया. लवली ने दो मिनट के बाद दरवाजा खोला. मगर मुझे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था. लवली अंदर की तरफ थी और मेरी सास उसको कुछ इशारा कर रही थी. मुझे लगा कि दाल में कुछ काला है.

शायद मां और बेटी मिल कर कुछ कांड कर रही थी. फिर मैंने अंदर होकर कमरे की लाइट जला दी. अंदर का नजारा देख कर मैं हैरान रह गया. लवली के कमरे में पूरा चुदाई का माहौल बना कर रखा गया था. टेबल पर शराब की बोतलें सजा कर रखी गयी थीं.

बेड पर एक लड़का नंगा होकर बैठा था. उसकी उम्र 30 से थोड़ी अधिक की लग रही थी. मैं लवली के पास जाकर खड़ा हो गया. वो शराब के नशे में थी.

मैं बोला- ये सब रंडीबाजी तुम और तुम्हारी मां जो मिलकर कर रही हो मुझे इसके बारे में पता लग गया है. तुम दोनों ने मिल कर मेरी जिन्दगी बर्बाद कर दी. पता नहीं कैसे मेरे मां-बाप ने मुझे इस नर्क में धेकल दिया.

लवली को कुछ होश ही नहीं था कि मैं उससे क्या बक रहा हूं. फिर वो लड़का देखते देखते ही अपने कपड़े उठा कर भाग खड़ा हुआ.
मैंने सासू मां से कहा- आप दोनों को शर्म नहीं आती है ये सब करते हुए? मेरे मां-बाप ने मुझे यहां फंसा दिया है. आज के बाद से हमारा रिश्ता खत्म.

मैंने वहां की सारी रिकॉर्डिंग कर ली थी. लवली का वीडियो भी बना लिया था ताकि मैं उसके लिये एक सुबूत पेश कर सकूं. मैंने किसी को पता नहीं लगने दिया कि मैं वीडियो रिकॉर्डिंग कर रहा हूं.

सासू मां कुछ नहीं बोल रही थी. पूरा कमरा शांत था.
फिर मैंने कहा- मुझे तलाक चाहिए. तुम लोग जो कर रही हो वही करती रहो. मैं आज से सारे रिश्ते खत्म करता हूं.

ये बोल कर मैं बाहर जाने लगा. मगर मेरी सास ने मुझे रोक लिया. उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बैठा लिया. लवली अभी भी कुछ नहीं बोल रही थी.
सासू मां मेरे सामने रोने लगी और बोली- हमसे गलती हो गयी है बेटा, एक बार माफ कर दे हमें.

मैं बोला- पहले मुझे लवली से बात करनी है. आप थोड़ी देर के लिए बाहर चली जाओ. मेरे कहने पर सासू मां बाहर चली गयी.
मैं लवली के पास बैठ गया और बोला- तुमको मेरा लंड अपनी चूत में लेकर ठंडक नहीं पड़ती है क्या जो तुम यहां पराये मर्दों से अपनी चुदवा रही हो?

वो रोने लगी और बोली- मुझसे गलती हो गयी है.
मैंने उसको चार-पांच झापड़ जड़ दिये.
वो जोर से रोने लगी और बोली- हां मार डालिये मुझे.
मैं बोला- अगर इतना ही प्यार था तुम्हें मुझसे तो ये सब काम क्यों कर रही थी?

वो मेरे पैर पकड़ कर रोते हुए बोली- मुझसे गलती हो गयी. मैं आपसे ही प्यार करती हूं.
मैंने उसको बांहों में भर लिया और बोला- तुम्हारी मां को तुम्हारे बारे में ये सब पता है?
वो बोली- हां, पता है.

मैंने कहा- तो फिर वो तुम्हें रोकती नहीं है क्या ये सब करने से?
लवली बोली- जब वो खुद ही करवाती है तो मुझे कैसे रोकेगी? वो रोज किसी न किसी को बुला लेती है और चुदाई करवाती है. मुझे अपने रूम में रोज आवाजें आती रहती हैं इसलिए मेरा भी मन कर जाता है तो मैंने भी करवा लिया.

लवली से मैंने पूछा- कितने लोगों को बुलाती है तुम्हारी मां?
वो बोली- पहले जो मेरे साथ एक वो है और एक दूसरा है.
मैंने पूछा- जो आज आया हुआ था?
लवली- हां, वही.

अब मेरे अंदर भी सेक्स के ख्याल आने लगे. मैंने सोचा पता नहीं अब तलाक होगा भी या नहीं होगा वो तो बाद में देखेंगे, मगर अभी तो सासू मां की चुदाई करने का सही मौका है. तो क्यों न आज सासू मां की चूत चोदी जाये! ऐसा मौका फिर हाथ नहीं लगेगा.

मैंने लवली से कहा- अगर मैं तुम्हारी मां को चोदना चाहूं तो वो मुझे करने देगी?
लवली बोली- उसके लिये थोड़ा नाटक करना पड़ेगा.
मैंने कहा- कैसा नाटक?

लवली ने कहा- मैं अंदर से कमरा बंद कर लेती हूं. आप उसके पास जाना और फिर रूठ कर जाने का नाटक करना. फिर वह आपको रोकेगी और मेरे रूम में आयेगी. उसको बोल देना कि आपने मेरी बहुत पिटाई की है. फिर आप उनके पास बैठ कर बातें करना और कहना कि इन सब में मुझे क्या मिला, मुझे तो केवल एक ही चूत मिली पूरी जिन्दगी भर के लिए और वह भी किसी और के लंड की झूठी.

लवली के कहने पर मैंने वैसा ही किया. मैं सासू मां के पास गया. लवली के कहे अनुसार मैं वैसे ही बातें करने लगा. मेरी सासू मां का हाल बुरा था. मैं उनके कंधे को सहलाने लगा और फिर उनकी चूचियों पर हाथ रख दिया.

वो मुझे देख रही थी. मैं धीरे धीरे उनकी चूचियों को सहला कर दबाने लगा. वो भी कुछ विरोध नहीं कर रही थी. मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख दिया और चूसने लगा. सासू मां भी मेरा साथ देने लगी.

अब मैं धीरे धीरे उनकी चूचियों को मसलने लगा. उसकी बड़ी बड़ी चूचियां दूध की तरह सफेद थीं. उन्होंने मेरे लंड को उनकी चूत चोदने के लिए बेचैन कर दिया.

फिर मैंने उनके ब्लाउज को निकाल दिया. उनकी चूची को मुंह में लेकर पीने लगा. मस्त मोटी चूचियों को चूसने में मुझे बहुत मजा आ रहा था. अब मैं धीरे धीरे उनकी चूत की ओर बढ़ने लगा. मैंने उनके पेटीकोट भी निकाल दिया और उनकी चूत को नंगी कर लिया.

बेड पर लिटा कर मैं धीरे धीरे उनकी चूत की ओर बढ़ने लगा. उनकी चूत एकदम से फूल कर गप्पा हो गयी थी. मैं उनकी चिकनी चूत को चाटने लगा. अब सासू मां के मुंह से भी कामुकता भरी आवाजें निकलने लगी थीं.

मैं सासू मां की चूत को चाटने का मजा ले रहा था. फिर मैंने अपने लंड को उनकी चूत पर सेट कर दिया और धक्का देने ही वाला था कि लवली आ गयी. मगर मेरा लंड तब तक सासू मां की चूत में उतर चुका था. मेरा एक हाथ उनकी चूची पर था. मैं उनकी चूची को दबा रहा था.

लवली एक तरफ खड़ी हुई देख रही थी. उसने मुझे आंख मार कर इशारा कर दिया था. धीरे धीरे अब मैंने उनकी चूचियों को मसलते हुए लंड के धक्कों की स्पीड तेज कर दी. मैं अपनी बीवी की मां की चूत उसकी आंखों के सामने ही चोदने लगा.

15 मिनट तक मैंने उनकी चूत की जबरदस्त चुदाई की और फिर अपना पानी उनकी चूत में ही छोड़ दिया.
चुदाई होने के बाद लवली ने कहा- मां, ये आपने क्या किया? अपने दामाद को भी नहीं छोड़ा आपने?
सास बोली- तेरी वजह से ही तो कर रही हूं. तेरी तो शादी हो गयी थी न, फिर भी तुम किशोर को रोज बुलाया करती थी. उससे अपनी चूत चुदवाया करती थी.

ये बात सुन कर मेरा खून खौल उठा और मैंने लवली को दो तमाचे रसीद कर दिये.
मैं बोला- तू तो पूरी रंडी है. मेरे रहते हुए भी किसी और से अपनी चूत मरवाती थी?
लवली ने कोई जवाब नहीं दिया.

फिर मैं बोला- चलो जो हुआ सो हुआ, अब पुरानी बातों को दोहराने से फायदा नहीं. अब हम तीनों मिल कर मजा लेते हैं. मैं अच्छी तरह जान गया हूं कि ये सब तुम दोनों मां-बेटी की ही मिलीभगत है. अब मुझे एक सप्ताह यहीं पर रुकना है. इस एक सप्ताह में मैं यहां से पूरा मजा लेकर जाऊंगा.

अगले दिन फिर मैं सासू मां की चूत के बालों की सफाई करने में लगा हुआ था.
लवली बोली- तुम तो मां की चूत का ही ख्याल रख रहे हो. केवल उन्हीं की चूत को चोदना है क्या? मेरी चूत की सफाई कौन करेगा?

मैं बोला- कोई बात नहीं, तुम भी आ जाओ.
फिर लवली भी आ गयी. मैंने बीवी की चूत की भी सफाई की. हम तीनों साफ हो गये और फिर मैंने सासू मां को अपनी मजबूत बांहों में उठाया और उनको बेडरूम में ले गया.

हम तीनों चुदाई के इस खेल में कूद पड़े. मेरी बीवी लवली ने अब मुझे चूत के खेल का खिलाड़ी बना दिया था. अब सासू मां भी मेरा साथ देने लगी थी. उन दोनों के साथ मैंने अपने ससुराल में कैसे मस्ती की और उसके बाद क्या क्या हुआ वो सब मैं कहानी के अगले भाग में लिखूंगा.

इस कहानी पर अपने कमेंट्स के जरिये अपने विचार लिखना न भूलें. मुझे आप लोगों की प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा. आप मुझे नीचे दी गयी ईमेल आईडी पर मेल भी कर सकते हैं.
[email protected]

मेरी चालू बीवी की चुदाई कहानी का अगला भाग: मेरी चालू बीवी लंड की प्यासी-2

Pages: 1 2