चाची की कामवासना और सेक्स

चूत की देवियों और लण्डधारी दोस्तों को मेरा सादर प्रणाम. मैं टोनी … मेरी पहली कहानी चाची संग सेक्स की आप लोगों के सामने प्रस्तुत कर रहा हूँ, अगर लिखने में कोई गलती हो तो क्षमा चाहूंगा।

पहले बता दूं कि मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और 2010 से अन्तर्वासना पर कहानियां पढ़ रहा हूँ। इतने सालों में आज मुझे मेरी सच्ची कहानी से आप सबको मुखातिब करने का मन हुआ तो यह कहानी लिख रहा हूँ।

मैं 5’7″, सांवला रंग, तीखे नयन नक्श का और बहुत ही मजाकिया व्यक्तित्व वाला लड़का हूँ। पढ़ाई में मैंने MBA किया है और कुछ समय पहले तक एक प्राइवेट कंपनी में जॉब करता था।

आज तक मैंने कई लड़कियों और औरतों के साथ चुदाई की है। यह कहानी है कि कैसे मेरे दूर की रिश्तेदारी में मेरी चाची ने मुझे अपने चंगुल में फंसाया और अपनी चूत चुदाई की।
बात करीब 1 साल पहले की है, हमारी दूर की रिश्तेदारी में से एक दादा जी बहुत बीमार हो गए और उन्हें सोनीपत स्थित एक प्राइवेट हॉस्पिटल में दाखिल करवाया गया। चूंकि हमारी सभी रिश्तेदारियों को पता है कि हम भी इसी शहर में रहते हैं तो चाचा जी ने फोन करके पापा को इसकी जानकारी दी। मैं और मेरे पापा दादा का हल पूछने बाइक से अस्पताल चले गए। वहाँ चाचा के परिवार के सारे सदस्य थे, चाचा, चाची और कुछ और लोग हाल पूछने वह आये हुए थे।

थोड़ी देर बात करने के बाद मेरे चाचा ने मुझे कहा कि अपनी चाची को घर ले जाओ!
तो मैं अपनी बाइक पर बैठकर चाची को लेकर चल दिया।

वहाँ से मेरा घर करीब 2 किलोमीटर दूर है तो रास्ते में चाची ने मेरी पढ़ाई लिखाई के बारे में पूछा। बातों-बातों में चाची ने कहा- कितनी छोरियां पटा राखी हैं तुमने?
तो मैंने कहा दिया कि एक भी नहीं!
बातों से चाची मुझे बहुत चालू लग रही थी. मैं तो पहले ही कई लड़कियों से सम्बन्ध बना चुका था तो मुझे उसके इरादे समझते देर न लगी।

इसी दौरान हम घर पहुँच गए। घर जाकर चाची माँ से बातें करने लगी और मैं मन ही मन चाची की चुदाई के सपने देखने लगा।
करीब 1 घण्टे बाद चाची ने कहा- टोनी, मुझे अस्पताल छोड़ दो, फिर घर जाना है।

मैं चाची को लेकर अस्पताल पहुँच गया. रास्ते में हमारी कुछ ज्यादा बातचीत नहीं हुई।
अस्पताल जाकर कुछ समय बाद चाची ने चाचा से घर चलने को कहा तो चाचा ने कहा- मैं तो आज रात यहीं रुकूंगा, तुम चली जाओ।

शाम के करीब 7 बजने वाले थे और चाचा का घर शहर से 10 किलोमीटर दूर एक गांव में था तो चाची ने कहा- अब शाम को गांव तक कोई साधन नहीं मिलेगा।
इस पर मेरे पापा, जो अभी तक वहीं थे, ने कहा- टोनी को साथ ले जाओ और अगर देर हो तो ये कल आ जाएगा।
चाचा ने भी पापा की बात पर हाँ कर दी। यह सुनकर तो मुझे यकीन हो गया था कि आज रात को चाची की चुदाई पक्की है।

मैं वहां से चाची को लेकर उनके गांव की तरफ चल पड़ा। रास्ते में चाची ने फिर से लड़कियों की की बात छेड़ते हुए कहा- तुम्हारी कितनी गर्लफ्रेंड हैं?
मैंने फिर से मना कर दिया तो चाची ने कहा- सच सच बता … आज तक कभी किसी लड़की के साथ मजे लिए हैं या नहीं?
यह सुनकर मैं पहले तो थोड़ा शरमाया, फिर मैंने कहा- कभी मौका ही नहीं मिला मजे लेने का!

तो चाची ने मजाकिया लहजे में कहा- अगर मौका मिले तो?
यह सुनकर मैं समझ गया कि ये आज मुझसे पक्का चुदेगी और मैंने भी कह दिया कि अगर मौका मिला तो पूरे खुलकर मजे लूंगा।
यह सुनकर चाची भी बहुत हँसी और हम बात करते करते करीब 30 मिनट में उनके घर पहुँच गए।

उनको घर छोड़कर मैंने नाटक करते हुए कहा- मैं वापस जाऊंगा.
तो चाची ने कहा- आज मैं तुझे जाने नहीं दूँगी, अब बहुत देर हो गयी है, कल सुबह चाचा की रोटी लेकर चले जाना.
यह सुनकर मैं हल्का हल्का मुस्कुराया और रुकने के लिए तैयार हो गया।

अब चाची के परिवार के बारे में बता दूं, चाचा के 3 बच्चे हैं, 1 लड़का और 2 लड़कियां। तीनों नादाँ हैं. उनकी दादी बहुत पहले चल बसी।

Pages: 1 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *